2000 year old mythological Analog computer, २००० साल पुराणा रहस्यमय एनालॉग कंप्यूटर

२००० साल पुराना रहस्य से भरा Antikythera mechanism - दोस्तों वैसे देखा जाये तो आपको किसी ने दुनिया का पहला कंप्यूटर के बारे मे पूछा तो आप " अबेकस " का नाम लेंगे, लेकिन अब " Antikythera Mechanism "  को आधुनिक युग का पहला Analog computer का श्रेय जाता है। मगर दोस्तों इस कंप्यूटर को " Antikythera " नाम क्यूँ रखा गया ?, इस मेकानिझम कार्य क्या है ? और इसे किसने बनाया ? तो चलते है इन सभी बातों को विस्तारित रूप से जानते है। 


mythological Analog computer, unsolved mystery, Hindi, Story, History, Mystery, Kahani, Itihas, Information, Jankari, ansuljhe rahasya, vishwa ke ansuljhe rahasya, ansuljhe rochak rahasya, duniya ke rahasya in hindi



तो दोस्तों १९०१ में ग्रीक आईलैंड Antikythera के तट पर एक पुराने डुबे जहाज़ का मलबा मिला था, जब उस जहाज़ का अंदर से निरीक्षण किया गया तब उस जहाज़ में से एक लकड़िका बक्सा मिला, जिसके अंदर हजारों साल पुराना एक एनालॉग कंप्यूटर था। ये कंप्यूटर Antikythera के तट पर मिलने के कारण इसका नाम " Antikythera Mechanism " रखा गया। 
माना जाता है की, इस Antikythera Computer को ग्रीक वैज्ञानिको ने हजारों साल पहले निर्माण किया था, याने वैज्ञानिको के संशोधन अनुसार ये कंप्यूटर लगभग २००० साल पुराना हो सकता है। इस वजह से इसको दुनिया का पहला कंप्यूटर माना जा रहा है।
जब इसे प्रयोगशाला में लाया गया, और फिर वैज्ञानिको ने जब इसे इन्फ्रारेड इमेज टेक्नोलॉजी से डिकोड किया तो तब उन्होंने पाया की, ये कंप्यूटर बहुत ही जटिल मेकैनीझम से बनाया गया है। और इस कंप्यूटर के ८० से भी ज्यादा अलग अलग पार्ट्स है, जिसपर यूनानी भाषा में कुछ खगोलीय लेख और कुछ कोड्स अंकित किये हुए है। 


वैज्ञानिको का मानना है की , इस कंप्यूटर का इस्तेमाल चंद्र और सूर्य ग्रहण की भविष्य वाणी के लिए किया जाता होगा और कुछ वैज्ञानिक कहते है की, इस कंप्यूटर का उपयोग तारो की गणना के लिए भी किया जाता होगा। अपने सौर मंडल में मौजूद ग्रहों की स्थिति का अनुमान लगाने के लिए भी किया जाता होगा। 
दोस्तों इस एंटिकायथेरा सिस्टम के बचे हुए भाग को राष्ट्रीय पुरातत्व संग्रहालय - एथेंस में अभी भी संरक्षित रखे हुये है। पर ये Antikythera Computer अभी भी एक रहस्य बना हुवा है की ,ये किस लिए बनाया गया था और क्यूँ ? 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें